प्रसव प्रारंभ के कारक (Causes of Onset of Labour) –

प्रसव प्रारंभ के कारक (Causes of Onset of Labour) –

onset-of-labor

Read in English

सामान्य प्रसव एक निश्चित काल में ही क्यों प्रारंभ होता है इसका संपूर्ण कारण अभी भी ज्ञात नहीं है। संभवतः आपस में संलिप्त अनेक प्रतिक्रियाऐं जो गर्भाशय की मांसपेशियों की शिथिलता (Uterine Inertia)  समाप्त कर संकुचन पैदा करती हैं, प्रसव प्रारंभ में सहयोग प्रदान करती हैं।

  1.  गर्भाशय का प्रसार या आध्मान (Uterine Distension) –
  2.  गर्भ एवं अपरा का योगदान (Fetus and Membranes) –
  • अज्ञात कारणों से गर्भ की अग्रवर्ती पीयूष ग्रंथी (Anterior Pituitary Gland) प्रसव पूर्व उत्तेजित हो अधिक ए.सी.टी.एच (Adreno-cortico Trophic Hormone) नामक अंतः स्त्राव का निर्माण करती है जो गर्भ की एड्रिनल ग्रंथी (Adrenal Gland) को उत्तेजित कर अधिक कोरटिसाल (Cortisol) नामक अंतःस्त्राव का निर्माण करती है। जिसके प्रभाव में अपरा (Fetal Membranes) अधिक ईस्ट्रोजन व प्रोजेस्ट्रान नामक अंतःस्त्राव का निर्माण करती है।
  • अपरा एवं भित्ति (Fetal Membranes) द्वारा निर्मित प्रोस्टाग्लांडिन्स् (Prostaglandins) नामक रसायनिक तत्व प्रसव प्रारंभ में अति महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।
  1. ऑक्सीटोसिन (Oxytocin) – प्रसव प्रारंभ के पूर्व गर्भाशय की मांसपेशियों में ऑक्सीटोसिन अभिग्राहकों (Oxytocin receptors) की अतिवृद्धि के कारण पश्च् पीयूषग्रंथी (Posterior Pituitary) द्वारा निर्मित इस अंतःस्त्राव के प्रति संवेदनशीलता बढ़ जाती है और गर्भाशयिक मांसपेशियों की संकुचन शक्ति बढ़कर प्रसव प्रारंभ होता है।
  2. नाड़ी संबंधित निमित्त (Nervous Factors) – गर्भाशय ग्रीवा उसके आस-पास तथा गर्भाशय के अधोभाग में स्थित पोस्ट गैंग्लियोनिक नाड़ी तन्तुओं (Post Ganglionic Autonomic Fibres) के एल्फा अभिग्राहकों (Alpha Receptors) के उत्तेजना के कारण प्रसव प्रारंभ होता है।

onset

सूचनाः

उक्त जानकारियाँ गर्भावस्था और शिशुपालन संबंधित विषयों पर सामाजिक जागरुकता पैदा करने हेतु साझा की गई हैं, ताकि, उनकी सुरक्षा सुनिश्चित कर माँ एवं शिशु मृत्यु दर कम की जा सके। लेखक द्वारा सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया गया है, कि दर्शाई गई जानकारियाँ प्रामाणिक स्त्रोत्र से सही प्राप्त की गई हों। हालांकि उन के पालन से पहले अपने स्वास्थ अधिकारी से अवश्य चर्चा करें। 




Causes of Onset of Labour

The exact cause of onset of labor is not known. Why do labor begins spontaneously at completion of term is an enigma.

Probably there is interactions of various factors that stimulates inert, relaxed, gravid uterus and make it responsive to contractile forces.

1- Uterine Distension.

2- Fetus and Membranes.

  • Before the onset of labor, for unknown reasons, the Anterior pituitary gland of fetus produces more Adreno-cortico trophic hormone that in turn stimulates the adrenal gland of fetus to produce more Cortisol hormone.
  • The cortisol hormone stimulates the fetal membranes to produce more Estrogen and Progesterone hormones.
  • The fetal membranes on stimulation by stretching or irritation by infection/ inflammation also produces Prostaglandins that play a vital role in onset of labor.

3- Oxytocin Hormone.

  • Before the onset of labor, the concentration of oxytocin receptors in uterine muscles increase several fold.  This makes the muscles hypersensitive to the oxytocin hormone that is released from the posterior pituitary gland and leads to uterine contractions.

4- Neurological Factors.

  • Stimulation of Alpha receptors of Post Ganglionic Autonomic Fibres situated around the uterine cervix play a important role in onset of labor.

onset

Disclaimer:

The information is shared to create awareness towards Pregnancy and Childcare to reduce maternal and child deaths. Atmost care has been taken by the author to include the verified information from authentic sources. However, kindly discuss the same with your health care provider before implementation.